नयाकैसिनोसाइट2017कोईडोपोसिटनहीं

पोस्ट टैग की गईं: फेडरर

डेविस कप 2014 फेडरर / वावरिंका बनाम बेनेट्यू / गास्केट

वावरिंकामूवी रैंकिंग: 4 / पांच

फेडरर, वावरिंका और अधिक शीर्ष स्पिन बीएच भाग II: स्ट्रोक चरण

वावरिंकामूवी रैंकिंग: 4/5

फेडरर, वावरिंका ने खींची भारी भीड़

वावरिंकामूवी रैंकिंग: 4 / पांच

पहली बाधा में स्विस गिरावट

रोजर फेडरर और स्टानिस्लास वावरिंका की स्विस जोड़ी को लंदन ओलंपिक के पुरुष टेनिस युगल टूर्नामेंट के दूसरे दौर में इस्राइली जोड़ी जोनाथन एलरिच और एंडी राम से हार मिली है। स्विस जोड़ी ने चार साल पहले बीजिंग ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था, लेकिन, यह जोड़ी इस बार भी इसे दोहरा नहीं पाई है। प्रतियोगिता में छठी वरीयता प्राप्त स्विस जोड़ी 1-6, 7-6(5), 6-3 से मैच हार गई। इस्राइली जोड़ी ने 1 घंटे 39 मिनट में मैच जीत लिया।

स्विस जोड़ी ने मैच की अच्छी शुरुआत की और पहला सेट महज 28 मिनट में आसानी से जीत लिया। ऐसा लग रहा था कि स्विस जोड़ी को अगले दौर में जाने में ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। लेकिन, एलरिक और राम के विचार कुछ और थे। उन्होंने दूसरे सेट में स्विस जोड़ी को कड़ी टक्कर दी और दूसरा सेट टाई ब्रेकर में चला गया। इसरेली के खिलाड़ियों ने टाई ब्रेकर में अपना उत्साह बनाए रखा और समझदारी से खेला और दूसरा सेट 7-6 से जीत लिया। तीसरे सेट में स्विस जोड़ी का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा। इस्राइली जोड़ी ने तीसरे सेट में एक बार स्विस टीम की सर्विस तोड़ी और फिर शेष गेम में अपनी सर्विस बरकरार रखते हुए तीसरा सेट 6-3 से जीत लिया।

मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में वावरिंका ने कहा कि टेनिस खेलने के लिए परिस्थितियां आसान नहीं थीं। कोर्ट के पार तेज हवा चल रही थी और शॉट खेलना काफी मुश्किल था। वावरिंका ने कहा कि मैच काफी करीब था। स्विस जोड़ी को मैच के महत्वपूर्ण क्षणों में अच्छा खेलने की जरूरत थी, लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हुआ। वावरिंका के अनुसार, स्विस जोड़ी ने एक या दो और मौके बनाए होते, तो मैच का नतीजा कुछ और होता।

रोजर फेडरर और स्टेन वावरिंका - डेविस कप - फ़्राइबर्ग, 8 फरवरी, 2012

वावरिंकावीडियो क्लिप रेटिंग: / 5

वावरिंका का मानना ​​​​है कि फेडरर सबसे महान हैं

17वांदुनिया में रैंकिंग टेनिस खिलाड़ीस्टैनिस्लास वावरिंका ने कहा है कि उनके साथी स्विस रोजर फेडरर अब तक के सबसे महान खिलाड़ी हैं जिन्होंने टेनिस कोर्ट में प्रवेश किया है और किसी के लिए भी उत्तम स्विस मास्टर के रिकॉर्ड को पछाड़ना बहुत मुश्किल होगा। हालांकि वावरिंका के 2011 सीज़न में कुछ अच्छे परिणाम थे, लेकिन यह उनके लिए घर वापस आने के लिए पर्याप्त नहीं था क्योंकि परिणामों की तुलना उनके हमवतन की उपलब्धियों से की गई, जो वावरिंका के अनुसार इस समय सभी से मीलों आगे हैं।

वावरिंका ने कहा कि कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह कहाँ गया, उसके परिणाम की तुलना फेडएक्स ने जो हासिल की है उससे की गई है और यह 26 वर्षीय के लिए बहुत असुविधाजनक है, और डेविड फेरर के साथ अपनी स्थिति की तुलना की है। वावरिंका के अनुसार, फेरर कोर्ट पर चाहे कुछ भी करें, फिर भी वह मालोर्का के बाहुबली से भारी पड़ जाएगा और उसके बारे में भी यही बात कही जा सकती है और इसीलिए,स्टैनिस्लास वावरिंकाकहता है कि उसे उसका हक कभी नहीं दिया जाएगा।

हालांकि, वावरिंका का कहना है कि उनके मन में अपने देशवासी के लिए बहुत सम्मान है, जो कोर्ट पर उनके प्रतिद्वंद्वी होने के साथ-साथ डेविस कप में उनकी टीम के साथी भी रहे हैं और उनका मानना ​​है कि आर-फेड के अलावा कोई मॉडल पेशेवर नहीं है। उन्होंने कहा कि 2011 में उनके करियर का अब तक का सबसे अच्छा सीजन था लेकिन उन्हें अभी भी महान स्विस मास्टर की देखरेख में होना पड़ा।

हालांकि, सबसे अच्छी बात यह है किस्टैनिस्लास वावरिंका अपने साथी देशवासियों के प्रति कोई द्वेष नहीं रखता और मानता है कि वह गलत युग में पैदा हुआ था। वावरिंका इस समय ऑस्ट्रेलियन ओपन की तैयारी कर रहे हैं और यहां एक जीत उन्हें उनके करियर में पहली बार विश्व रैंकिंग के शीर्ष 10 में ले जाएगी।